मोरिंडा जूस

मोरिन्डा जूस के फायदे (मोरिन्डा सिट्रीफोलिया)


• मोरिन्डा का नियमित प्रयोग स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालने मे सहायक है ।

• स्वास्थ्य को सुधारना

• संक्रमण से लड़ना

• पाचन मे सहायक है

• एलर्जी को कम करना

• स्वस्थ लिवर में सहायता

• जोड़ो की सूजन और दर्द में राहत दिलाता है

• कोशिकाओं को पुनः जीवीत करना

• तनाव और थकावट से राहत देना

• स्वस्थ दिल एवं कोलेस्ट्राल अस्तर से सहायता करता है

• शरीर को डिटाक्सीफाई करता है

• मधुमेह की खतरे को कम करता है

• प्रतिरक्षा को बढ़ाना

• स्मरण शक्ति और एकाग्रता को सुधारना

• वस्थ त्वचा और बालों का रख-रखाव करता है

• ट्यूमर / कैंसर के खतरे को कम करता है


मोरिन्डा जूस की शक्ति


प्राकृति के रूप मे वनस्पिति पौषकों (पौधों पर आधारित पोषक) द्वारा किसी के स्वास्थ्य की देखभाल करना, जीवन की एक शैली बन जाता है। यह उन सभी के लिए आदर्श चयन है जो आधुनिक जीवन-शैली की चुनौतियों के साथ सक्रिय और संतुलित जीवन-शैली बनाए रखना चाहते हैं। अनुसंधान के प्रगतिशील निकाय और अध्ययन से यह स्पष्ट है कि पर्याप्त संख्या में वनस्पति पौषक प्रमाणित स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं।

कोशिकाओं एवं उत्तकों को पुनः जीवित करना: यह कोशिकाओं के स्तर पर अधिक मात्रा में पौषक तत्वों को अवशोशित करने में सहायता करता है, जिसके फलस्वरूप विभिन्न शारीरिक क्रियाएं भली-भांति कार्य करती हैं।
प्रतिरोधात्मक शक्तिवर्धक: प्रतिरोधात्मक प्रणाली की प्राकृतिक एवं शक्तिवर्धक क्षमता को संक्रमण और रोगों से लड़ने योग्य बनाने में सहायता करता हैं
उत्तम मानसिक और शारीरिक शक्ति: इनकी आॅक्सीडेंट गुणवत्ता कोशिकाओं को सुरक्षित और स्वस्थ रखती है।
सम्पूर्ण ऊर्जा में वृद्धि: स्मरण शक्ति, एकाग्रता सीमा और भौतिक सहनशीलता का स्तर बनाने में सहायक है।

मोरिन्डा सिट्रीफोलिया का प्रयोग 2000 से अधिक वर्षों से सम्पूर्ण शारीरिक प्रणाली को भोजन और विभिन्न स्वास्थ्य अवस्थाओं के लिए दवा के रूप में सहारा देने हेतु किया जाता रहा है। आयुर्वेद के पौराणिक लेखों में मोरिन्डा का उल्लेख है और इसका प्रयोग बीमारियों और रोगों के निदान के लिए पारंपरिक रूप से किया जाता है। यह विटामिन ए विटामिन बी और विटामिन सी एवं खनिजों जैसे कि कैल्सियम, पोटेशियम, आयरन (लोहा) फास्फोरस से भरपूर है। मोरिन्डा शरीर में जीरोनाइन स्तर बनाने के लिए सर्वाधिक जाना जाता है। जीरोनाइन की आवश्यकता शरीर की कई मुख्य प्रणालियों के महत्वपर्णू कार्यों को करने के लिए होती है। शरीर में जीरानाइन की कमी आयु, तनाव, बीमारी और आहार की कमी के कारण होती है।


मोरिन्डा -मुख्य घटक और उनके लाभ -


प्रोजीरोनाइन और प्रोजीरोनेज- प्रोटीन का इष्टतम कार्य को प्रोत्साहित करना और कोशिकाओं के संपोषण और हारमोन संतुलन को बढ़ावा देना है।
स्कोपोलेटिन - शोधरोधक, हिस्टामाइन रोधक, जीवाणु और फंगल प्रतिरोधी गुणों वाला, रक्तचाप को कम करता है और सीरोटोनिन, नींद, भूख और तापमान को नियमित करने के लिए बांधता है।
एंथ्राक्वीनन - संक्रमित जीवाणुओं जैसे कि स्टाफाइलोकोक्स ओरियस, ई-कोली और सलमोनिला।
डिमनाकांथल - कैंसर से पहले की कोशिकाओं की वृद्धि को रोकता हैं
ट्रपीन - कोशिकाओं की कायाकल्प में सहायता अतः पोषक टोक्सिन एक्सचेंज को बढ़ाता है।
फाइटोन्यूट्रियंट -फ्री रेडिकल्स के विरूद्ध शक्तिशाली एंटी आॅक्सीडेन्ट्स उपलब्ध करवाता है।
घुलनशील और अघुलनशील फाइबरों से भरपूर - घुलनशील फाइबर खून को साफ करने में, कोलेस्ट्राॅल कम करना, वसा को बांधता है और रक्त शर्करा को संतुलित करता है, अघुलनशील फाइबर (बल्क) पेट के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।
एमिनो एसिड से भरपूर - एमिनो एसिड प्रोटीन के निर्माण के घटक है, शरीर के कई कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है। आवश्यक एमीनों एसिड वे हैं जिन्हें हमारा शरीर नहीं बना सकता और अतएव हमें इन्हें बाहर से लेना चाहिए।
आवश्यक वसायुक्त अम्लों से भरपूर - वसायुक्त अम्ल वसा और तेलों के निर्माण घटक है। मोरिन्डा मे आवश्यक वसायुक्त अम्ल स्वस्थ त्वचा, नाडी कोशिकाओं हृदय तंतुओं और रक्त वाहिकाओं और मनोदशा संतुलन को बनाये रखने मे ंसहायक है। ये कोशिकाओं की झिल्लियों को ठीक से कुशलतापूर्वक काम, पोषक-टाॅक्सिन एक्सचंेज को सुधारते हैं।
संदर्भ - एक0के0 औलसन/डा0 रैल्फ हैनिक, अंडरस्टेंडिंग दी मिरेकल: मोरिन्डा के विज्ञान का परिचय, यह जानकारी डा0 रैल्फ हैनिक, डा0 स्काॅट गिर्सन डा0 हीरा जुमी किम, डा0 मियान-चिंग, डा0 नील सालोमन, डा0 मोना हैरिसन, डा0 विलियम मैकफिलेमी, डा0 गेरी ट्रान और अन्यों के संग्रहित लैक्चरांे और निष्कर्ष के सारांश का प्रतिनिधित्व करती है।

मोरिन्डा किस प्रकार कार्य करता है।


- मोरिन्डा में शक्तिशाली फाईटोन्यूट्रियंट तत्व, प्रोजीरोनाइन होते हैं।

- प्रोजीरोनाइन मानव शरीर में प्रोजीरोनाइन एंजाइम की सहायता से जीरोनाइन में परिवर्तित हो जाता है।

- जीरोनाइन शरीर की कोशिकाओं द्वारा अवशोषित किया जाता है जिससे अनगिनत स्वास्थ्य लाभ होते हैं।

कोकम (ग्रासिनिआ इंडिका) के लाभ


कोकम एंटीआॅक्सीडेंट्स का उत्तम स्रोत है और निम्न में सहायता कर सकता है -
- एसिडिटी से राहत
- पेट फूलने को कम करना
- कई रोगों के प्रभाव को निष्क्रिय करना
- मलत्याग को नियमित करना
- पाचन क्रिया सुधारना
- रक्त का शुद्धिकरण करना
- उत्तम कोलेस्ट्राॅल में सहायक
- वेट मैनेजमेंट में सहायक

अच्छा स्वास्थ्य और तंदरूस्त जीवन चाहने वालों के लिए


अच्छा स्वास्थ्य और तंदरूस्त जीवन चाहने वालों के लिए

सुझाए गए उपयोग -
खाना खाने से 30 मिनट पहले खाली पेट पीएं। इसे जैसा है वेसे ही या पानी में मिलाकर या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।
पहले 3 दिन - 5 मि0ली0 दिन में दो बार
4थे -6ठवें दिन - 10 मि0ली0 दिन मे दो बार
7वें दिन के बाद - 15-30 मि0ली0 दिन में दो बार
अच्छे परिणाम के लिए 6 से 12 महीनों तक दिन में दो बार लें।
6 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को उपरोक्त बताई खुराक की आधी खुराक दें।
दिनभर भरपूर मात्रा में पानी पीएं।

प्रयोग से पहले अच्छी तरह हिलाएं


प्रयोग से पहले अच्छी तरह हिलाएं -
सावधानी - गर्भावस्था, स्तनपान करवाते समय और जुलाब आदि के दौरान नहीं लेना चाहिए।
एक गुणधर्म आयुर्वेद औषध:
यहाँ पर दी गयी जानकारी स्व्यं के इलाज के लिए चिकित्सीय सलाह नहीं है और यह केवल शैक्षणिक उद्देश्य के लिए है। विशेष चिकित्सीय अवस्थाओं वाले उपभोक्ताओं को मोरिन्डा जूस लेने से पहले अपने डाॅक्टर से सलाह करनी चाहिए। मोरिन्डा जूस के फायदे (मोरिन्डा सिट्रीफोलिया)
मोरिन्डा का नियमित प्रयोग स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालने में सहायक है।
- स्वास्थ्य को सुधारना।
- संक्रमण से लड़ना
- पाचन में सहायक है।
- जोड़ों की सूजन और दर्द से राहत दिलाता है।
- ऊर्जा और क्षमता को बढ़ना
- एलर्जी को कम करना
- स्वस्थ लिवर में सहायता
- स्वस्थ दिल एवं कोलेस्ट्राल स्तर में सहायता करता हैं
- कोशिकाओं को पुनः जीवित करना
- तनाव और थकावट से राहत देना
- शरीर को डीटाॅक्सीफाई करता।
- मधुमेह के खतरे को कम करता है।
- प्रतिरक्षा को बढ़ाना
- स्मरण शक्ति और एकाग्रता को सुधारना
- स्वस्थ त्वचा और बालों का रख रखाव करता है।
- ट्यूमरों/कैंसर के खतरे को कम करता है।

मोरिन्डा प्रकृति का अपना पोषण-
मोरिन्डा 150 पोषक तत्वों के लिए जाना जाता है।